205 साल बाद मंगलवार “शनि जयंती” अद्भुत महासंयोग, रात को तकिए के नीचे रख ले ये 1 चीज़ सुबह देखे कमाल ..

जैसा कि सभी को ज्ञात है शनि जयंती ज्येष्ठ अमावस्या 15 मई को आ रही है। यह दिन शनिदेव के जन्म का दिवस है। इस दिन उन्हें प्रसन्न् करने के लिए वेदोक्त, तांत्रोक्त, मंत्रोक्त जैसे कई तरह के उपाय किए जाते हैं। लेकिन इस खास दिन क्या नहीं करना चाहिए यह किसी को पता नहीं है। शनिदेव न्याय के देवता हैं इसलिए इस दिन कोई भी ऐसा-वैसा अनैतिक कार्य करने से वे क्रोधित हो सकते हैं, और जातक को शुभ की बजाय अशुभ प्रभाव मिलने लगते हैं। ( अधिक जानकारी के लिए देखें नीचे दी गयी वीडियो ).

नवग्रहों में सबसे क्रूर ग्रह शनि को ही माना जाता है। दरअसल वे क्रूर नहीं, बल्कि न्यायप्रिय ग्रह हैं। अर्थात व्यक्ति को उसके कर्म के अनुसार दंड देने का अधिकार उनके पास है। जो व्यक्ति गलत कार्य करता है वह उनसे डरता है। अच्छे और परोपकार के कार्य करने वालों को शनिदेव से डरने की आवश्यकता नहीं हैं।

अमावस्या के दिन जरूरी हो तो ही यात्रा करें

    • अमावस्या के दिन काम क्रीड़ा में लिप्त होने से व्यक्ति की किस्मत रूठ जाती है।
    • अमावस्या के दिन जरूरी हो तो ही यात्रा करें, अन्यथा यात्रा टालना ही बेहतर होता है।
    • इस दिन कांच की वस्तुएं बिलकुल न खरीदें। इससे पारिवारिक जीवन में परेशानियां आती हैं।
    • शनि जयंती वाली अमावस्या के दिन कर्ज बिलकुल ना लें। वरना कर्ज कभी समाप्त नहीं होगा।
    • शनि जयंती के दिन झूठ बोलना, बुराई करना, किसी का पैसा हड़पना, संपत्ति पर कब्जा करने से आपको उसका कई गुना ज्यादा लौटाना पड़ेगा।

देखें वीडियो !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here